Chairman's Message

chairman image

डॉ. नवीन बलूनी

MBBS, MD(RADIO), MD(PHYSIO)
S.N.MEDICAL COLLEGE, AGRA

चेयरमेन

डॉ. बलूनी इण्टर कॉलेज, आगरा

अपनी बात
प्रिय अभिभावक,

प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराने के क्षेत्र में हमें नम्बर एक संस्थान बनाने के लिये धन्यवाद । मैं उन सभी लोगों को धन्यवाद देता हूँ जिन्होंने सम-विषम परिस्थितियों में हमारा साथ निभाया। अपने प्रोफेशनल कैरियर में मैंने छात्रों व अभिभावकों को, विशेषकर प्रि-फाउन्डेशन बैच (8वीं पास) के छात्रों को, होने वाली कठिनाइयों को समझा व पाया कि अभिभावक अपने बच्चों को विभिन्‍न प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल होते देखना चाहते हैं पर यह निर्धारित नहीं कर पाते कि उन्हें कोचिंग ज्वाइन करनी है या नहीं । वे अपने आप को एक दोराहे पर खड़ा पाते हैं जहाँ से एक राह कोचिंग को जाती है व दूसरी स्कूल को । जहाँ कोचिंग छात्रों को प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल होने के साधन उपलब्ध कराती है वहीं स्कूल छात्रों के व्यक्तित्व का निर्माण करते हैं व उन्हें भविष्य के लिये एक आधार तैयार करते हैं। अर्थात्‌ छात्र के उज्ज्वल भविष्य के लिये दोनों ही राहें महत्वपूर्ण है। इन बातों को ध्यान में रखते हुए मैंने छात्रों के हित में कुछ ऐसा करने का सोचा जिससे छात्रों को कोचिंग व स्कूल दोनों का लाभ मिल सके। मैंने आप सभी के सहयोग से डॉ. बलूनी इण्टर कॉलेज के रूप में एक ऐसे विद्यालय की आधारशिला रखी है जहाँ छात्रों को स्कूल के वातावरण में कोचिंग के सभी लाभ मिल सके । उन्हें एक छत के नीचे ही स्कूल का व्यक्तित्व निर्माण व कोचिंग का प्रतिस्पर्धा पूर्ण शैक्षणिक वातावरण मिल सके । वर्तमान में अभिभावक न तो अपने बच्चों को स्कूल से हटाना चाहते हैं नहीं अपनी इस बलवती इच्छा को रोक पाते हैं कि उनका बच्चा प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल हो। पर अब आपको सिर्फ अपने बच्चे को मेरे स्कूल में नामांकित कराना है जहाँ मेरे निरीक्षण में वे स्कूल के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षाओं के लिये खुद को तैयार करेंगे। मेरे स्कूल में विज्ञान, अंग्रेजी व समाजशास्त्र के विशेषज्ञों की टीम भी मौजूद है ताकि छात्र अपने बोर्ड की परीक्षाओं में भी बेहतर परिणाम दें । यह स्कूल ही एक विशिष्ट व एकमात्र तरीका है जिससे आपका बच्चा बोर्ड व प्रतियोगी परीक्षा दोनों में अपनी उपलब्धि दर्ज करा सके, वह भी मेरी सर्वश्रेष्ठ शिक्षण टीम के निर्देशन में। मैं एक स्कूल व एक कोचिंग, दोनों की विशेषताओं को समझता हूँ व मानता हूँ कि छात्र के सम्पूर्ण मानसिक व शैक्षणिक विकास के लिये दोनों का होना अति आवश्यक है। अत: सही तरीका यही है कि दोनों को मिलाकर एक राह तैयार करें ताकि छात्र महसूस करें कि वह अपने स्कूल में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कर रहा है। यह उक्त सपना डॉ. बलूनी इण्टर कॉलेज के रूप में ही पूर्णहोना संभव है।


अनन्त तक उड़ने की चाह रखने वालों को मेरा यह प्रयास अवश्य ही पंख प्रदान करेगा। मैं उन बहुत कम लोगों में हूँ जो मानते हैं कि प्रत्येक बच्चे में कुछ खास गुण होते हैं। बस करना इतना ही है कि उन्हें तराशा जाए व ज्ञान व प्रेरणा देकर उनका विकास किया जाए। आशा करते हुए कि छात्रों के प्रति मेरा हितचिन्तन व मेरे प्रति आपकी आशाएं व विश्वास कम न हो, इन शब्दों के साथ मैं अपना संदेश समाप्त करता हूँ कि ''उड़ने के लिये पंख हो न हो , जोश अवश्य होना चाहिए। ''